नवग्रह वाटिका में संघ प्रमुख ने किया पौधारोपण

भारत को आदर्श बनाने के लिए हमें आदर्श व्यक्ति बनना पड़ेगा-  डॉ. मोहनराव भागवत

गाज़ीपुर। ध्यान साधना व आध्यात्मिक उर्जा के केन्द्र प्रसिद्ध सिद्धपीठ हथियाराम मठ में रात्रि प्रवास के उपरान्त राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख डा. मोहन जी भागवत गुरुवार की सुबह संत निवास परिसर के बगीचे में वैदिक मन्त्रोच्चार के बीच नवग्रह वाटिका की स्थापना के क्रम में पौधारोपण किया। बैटरी चालित टोटो में सवार होकर पीठाधिपति महामंडलेश्वर स्वामी श्री भवानीनन्दन यति जी महाराज के साथ वेनिवर्तमान संतों के तपोस्थली स्थल पर पहुंचे। वहां नव ग्रहों के अनुसार मान्यता वाले अक्षय वट, श्वेत- लाल चंदन, मौलश्री, रुद्राक्ष आदि के पौधो का रोपण किये। वहां से वापस लौटकर उन्होंने बुढिया माता का दर्शन-पूजन किया और महाराज श्री से आशीर्वाद लेकर अपने कारवां के साथ मिर्जापुर के लिए निकल पड़े।        

        बताते चलें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख डा. मोहन जी भागवत के बुधवार को सिद्ध पीठ हथियाराम मठ पहुंचे थे। वहां आचार्यों के वैदिक मंत्रोच्चार के बीच संघ प्रमुख ने सिद्धपीठ की अधिष्ठात्री देवी वृद्धम्बिका माता का पूजन अर्चन  व चल रहे चातुर्मास महायज्ञ में रुद्राभिषेक कर लोक कल्याणार्थ आशीष मांगा। वहीं संध्या समय शिव संकल्प संवाद कार्यक्रम में आम जन मानस को संबोधित करते हुए सरसंघचालक डॉ मोहनराव भागवत ने कहा कि भारत देश को आदर्श देश बनाने के लिए हमें खुद आदर्श व्यक्ति बनना पड़ेगा। हम अपना हित बलिदान कर देश का हित सोचेंगे तब देश बड़ा बनेगा।  उन्होंने कहा कि मनुष्य को शीलवान होना चाहिए। अध्यात्म जीवन जीने का संदेश देता है। संतुष्टि के बाद वैराग्य और वैराग्य के पश्चात ही भगवान की प्राप्ति होती है। ऋषि मुनि के अनुसंधान (शोध) व सत्य के बल पर ही हम दुनियां के सबसे बड़े ट्रस्टी बने और दुनियां के लोगों को सुखी रहने का ज्ञान दिया।                           

              सरसंघ चालक ने सिद्धपीठ हथियाराम का वर्णन करते हुए कहा कि एकांत सुदूर में स्थित यह सिद्धपीठ ध्यान साधना व आध्यात्मिक उर्जा का केन्द्र है। यहां परोपकार के कार्य होते हैं। मठ मंदिरों के  समृद्ध रहने से ही हमारा वैभव बढ़ता है। यहां के महंत स्वामी भवानी नन्दन यति और अधिष्ठात्री देवी का दर्शन कर मैं स्वयं रीचार्ज हो जाता हूं। यहां आकर मन को शांति मिलती है।  संघ प्रमुख ने कहा कि साधु-संतो के सानिध्य में रहने से मन में हमेशा शुभ संकल्प का वास होता है और शुभ संकल्प अर्थात अच्छे मन से किया गया कार्य सदैव सफल होता है।

         संघ प्रमुख डॉ मोहनराव भागवत का स्वागत करते हुए महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति जी महाराज ने कहाकि राष्ट्र निर्माण में महती भूमिका निभाने वाले संगठन के मुखिया किसी संत से कम नहीं हैं। आपके यहां आगमन से सिद्धपीठ अपने आपको गौरवान्वित महसूस करता है।              ।

         कार्यक्रम को सफल बनाने में मठ प्रशासन से जुड़े लोगों व श्रद्धालुओं के साथ ही साथ प्रशासनिक अमला पिछले कई दिनों से जुड़ा रहा। बुधवार को व्यवस्था में जिलाधिकारी आर्यका अखौरी पुलिस अधीक्षक ओमवीर सिंह सहित क्षेत्राधिकारी सहित काफी संख्या में प्रशासनिक अधिकारी तथा भारी पुलिस फोर्स तैनात रही।  कार्यक्रम में देवरहा बाबा बिरनो, डा. रत्नाकर त्रिपाठी, संघ के प्रांत प्रचारक रमेश जी, विधान परिषद सदस्य विशाल सिंह चंचल, जिला पंचायत अध्यक्ष सपना सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष भानू प्रताप सिंह, सादात ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि संतोष यादव, डा. संतोष मिश्र, पंकज सिंह, प्रवीण सिंह, अच्छेलाल गुप्ता, सरोज कुशवाहा, विपिन सिंह, संकठा प्रसाद मिश्र, रामचंद्र, मुनीश, राजेन्द्र, मुरली पाल, राकेश, सच्चिदानंद, शिवनारायण, पुजारी सर्वेश मिश्रा, लवटू प्रसाद, डा. अमिता दूबे, डा. सानंद सिंह, हरिश्चंद्र सिंह, सहित काफी संख्या में गणमान्यजन व कन्या महाविद्यालय की छात्राएं व समस्त स्टाफ तथा मठ से जुड़े अनेक शिष्यगण व मीडिया से जुड़े पत्रकार बन्धु उपस्थित रहे। मंचीय कार्यक्रम का सफल संचालन ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि डा. संतोष यादव ने किया।

         

हथियाराम । बुधवार को मंचीय कार्यक्रम के दौरान संघ प्रमुख डा मोहन जी भागवत ने जिले के दस विशिष्ठ लोगों को सम्मानित किया जिसमें परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के पुत्र जैनुल बसर, महावीर चक्र विजेता स्व.  रामउग्रह पांडेय की पुत्री सुनीता पांडेय, स्वतंत्रता सेनानी स्व. जीतन पांडेय के पुत्र मिश्री पांडेय, अलगू यादव के परिवार से रामप्रसाद यादव, शहीद संजय यादव की पत्नी राधिका यादव, मुहम्दाबाद के अष्टशहीद वशिष्ठ राय के पौत्र अंकुर राय, जिले में लावरिस शवों की अंत्येष्टि करने वाले वीरेन्द्र सिंह, पर्यावरणविद रणधीर यादव, शैक्षणिक कार्य करने वाली उषा बनवासी शामिल रही।

Views: 152

Leave a Reply