शिक्षा विहीन समाज मृतप्राय समूह है- प्रो. वी के राय 

विद्यार्थियों का परिष्कार ही शिक्षक का पुरस्कार है- प्रो. मधुसूदन मिश्र

गाज़ीपुर। स्वामी सहजानन्द पीजी कालेज में शिक्षक दिवस पर आयोजित शिक्षक सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. वी के राय ने कहा कि शिक्षक आधुनिक भारत की गौरवशाली विकास यात्रा की रीढ़ है। एक सभ्य समाज के सर्वांगीण विकास के लिए शिक्षा—शिक्षार्थी का समन्वित परिष्कार आवश्यक है। शिक्षा और संस्कार  विहीन समाज एक मृतप्राय समूह है, इसे जीवंत तथा गतिमान बनाए में शिक्षकों की महत्व पूर्ण भूमिका है।

       कार्यक्रम में हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो. मधुसूदन मिश्रा को सेवानिवृत्ति के पश्चात सम्मानित किया गया। अपने कृतज्ञता संवाद मे प्रो. मिश्रा ने कहा कि हमारे विद्यार्थियों कि प्रगति और पेरिसकर ही हमारा परिश्रमिक है। उन्होंने प्राचार्य सहित महाविद्यालय के सभी शिक्षक-कर्मचारियों के प्रति आभार व्यक्त किया।

    इससे पूर्व महाविद्यालय के प्राचार्य तथा मंचस्थ अतिथिगणों द्वारा माँ सरस्वती तथा सर्वपल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण तथा  दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। स्नातक द्वितीय वर्ष की छात्रा विजय लक्ष्मी ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर प्रो. अवधेश नारायण राय, डॉ. विलोक सिंह, डॉ. कृष्णनन्द चतुर्वेदी, डॉ. राकेश पाण्डेय, डॉ. प्रमोद श्रीवास्तव तथा ओमप्रकाश राय आदि ने प्रो. मधुसूदन मिश्र के व्यक्तित्व की सराहना करते हुए उनके प्रति प्रशंसात्मक संस्मरण प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में टाटा मोटर्स तथा एसबीआई जनरल इन्शुरेंस के पदाधिकारी भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम में सहभागिता करते हुए इन अतिथि-अधिकारियों ने महाविद्यालय के सभी शिक्षकों व कर्मचारियों को पेन तथा स्टैंड भेंट किया। महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने प्रो. मिश्रा को केक खिलाकर उनका आशीर्वाद लिया. कार्यक्रम मे प्रो. गायत्री सिंह, रामधारी राम, डॉ. विशाल सिंह, सुश्री सौम्या वर्मा, तूलिका श्रीवास्तव, डॉ. कंचन सिंह, डॉ. विभा राय, डॉ. वी के ओझा, सतीश राय, संजय राय, शशांक राय, पंकज राय, शरद राय, आशीष राय, मुन्ना, संतोष राय, मोहन पाल, धर्मेंद्र कुशवाहा, महेंद्र राम आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन प्रो. अजय राय, अध्यक्ष अंग्रेजी-विभाग  ने किया।

Views: 182

Leave a Reply