शिकायती पोर्टल पर शिकायत के बाद टूटी विभाग की तंद्रा, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को मिला चिकित्सक

गाज़ीपुर। शहीद वीर अब्दुल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र धामूपुर पर आखिकार नए चिकित्सक को तैनाती मिल गयी। वह सप्ताह में तीन दिन इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपस्थित होकर मरीजों का इलाज करेंगे। इसकी जानकारी मुख्य चिकित्साधिकारी ने दी है।

              बताते चलें कि शहीद वीर अब्दुल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र धामूपुर पिछले कई माह से चिकित्सक विहीन था। चिकित्सा के न होने से गांव तथा आसपास के क्षेत्र के मरीजों को अपना इलाज कराने हेतु अन्यत्र जाना पड़ता था जिससे समय के साथ-साथ धन की भी बर्बादी होती थी। इस समस्या से निजात दिलाने हेतु कई बार विभागीय उच्चाधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराया गया पर कोई सफलता नहीं मिली। क्षेत्रीय मरीजों की परेशानियां को देखते हुए गत 24 अगस्त को धामूपुर गाँव के समाजसेवी अनिकेत चौहान ने प्रधानमंत्री कार्यालय को शिक़ायती पत्र पोस्ट किया। इसके साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री के पोर्टल तथा ट्विटर , फेसबुक पर पोस्ट कर दिया। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हडकम मच गया । जिसके बाद आनन फानन में 19 सितंबर 2023 की शाम को मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चिकित्सक की नियुक्ति कर इसकी सूचना दी।

        मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने लिखा है कि शहीद बीर अब्दुल हमीद नया प्रा०स्वा०केन्द्र धामूपुर जखनिया गाजीपुर में चिकित्सक तैनाती की मांग की गयी है। उक्त संदर्भ में अवगत कराना है कि जनपद में वर्तमान समय चिकित्साधिकारियों की कमी होने के कारण प्रत्येक नया प्रा०स्वा०केन्द्र पर चिकित्सक की तैनाती करने में कठिनाई हो रही है। चिकित्सकों की उपलब्धता हेतु शासन को कई बार मांग पत्र भेजा जा चुका है। 

         शहीद बीर अब्दु हमीद नया प्रा०स्वा०केन्द्र पर डा० अनूप राजभर  चिकित्साधिकारी, नया प्रा०स्वा०केन्द्र, हथियाराम मठ, जखनियां गाजीपुर को सप्ताह में तीन दिन शहीद वीर अब्दुल हमीद नया प्रा०स्वा०केन्द्र धामू गाजीपुर पर कार्य करने हेतु निर्देशित कर दिया गया है। भविष्य में जैसे जिले में नए डाक्टर की तैनाती होती है। तो शहीद वीर अब्दुल हमीद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धामुपुर में स्थाई डाक्टर नियुक्ति कर दी जाएगी।

      इसके बाद समाजसेवी अनिकेत चौहान और समस्त ग्रामवासियों ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का आभार व्यक्त किया कि अब मरीजों को मायूस होकर ईलाज के लिए अन्य अस्पताल में नहीं जाना पड़ेगा।

Views: 178

Leave a Reply