भोजपुरी गीतों का संग्रह ‘झूठे देखावलऽ भोर’ का  विमोचन सम्पन्न

गाजीपुर‌। साहित्य चेतना समाज के तत्वावधान में ‘चेतना-प्रवाह’ कार्यक्रम के अन्तर्गत भोजपुरी के जनपक्षीय चेतना के सिद्ध गीतकार स्मृतिशेष गौरीशंकर मिश्र ‘मुक्त’ की जयन्ती पर डाॅ. अक्षय पाण्डेय द्वारा सम्पादित मुक्त जी के भोजपुरी गीतों का संग्रह ‘झूठे देखावलऽ भोर’ का भव्य विमोचन गदाधर-श्लोक महाविद्यालय,रेवतीपुर के सभागार में संपन्न हुआ। 

        विमोचन समारोह और  कवि-गोष्ठी के दो सत्रों में विभक्त इस समारोह के अध्यक्ष भोजपुरी के वरिष्ठ कवि अनन्तदेव पाण्डेय ‘अनन्त’,मुख्य अतिथि वरिष्ठ नवगीतकार,अपर मण्डलायुक्त (से.नि.), वाराणसी ओम धीरज , एवं विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ नवगीतकार, वरिष्ठ पत्रकार हिमांशु उपाध्याय रहे। 

      प्रथम सत्र का संचालन युवा नवगीतकार डॉ.अक्षय पाण्डेय एवं द्वितीय सत्र का संचालन कवि मिथिलेश गहमरी ने किया।

         मंच की शास्त्रीय औपचारिकताओं के पश्चात् कार्यक्रम का शुभारंभ मुक्त जी द्वारा विरचित ‘आओ माॅं मानस में आओ’ गीत से हुआ,जिसका सुमधुर गायन  मनोज कुमार मिश्र ने किया। अतिथि गण, विद्वत्जन एवं गणमान्य ग्रामवासियों की उपस्थिति में ‘झूठे देखावेलस भोर’ पुस्तक का भव्य विमोचन हुआ। मुक्त जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए वक्ताओं ने उन्हें जनपक्षीय चेतना का महान कवि कहा। मुक्त जी की रचनाओं में विषय-वैविध्य के साथ वैचारिक गहराई है ऐसा सभी वक्ताओं ने एक स्वर में स्वीकार किया। भोजपुरी एवं हिन्दी दोनों भाषाओं में समान गति से महत्वपूर्ण लेखन के लिए वक्ताओं ने उनकी भूरिश: प्रशंसा की‌।उनकी भोजपुरी गीतों के विद्वतापूर्ण सम्पादन के लिए डॉ.अक्षय पाण्डेय की सभी ने सराहना की। वक्ताओं में ओम धीरज, डॉ.विनय कुमार दूबे डॉ.रामनारायण तिवारी, डॉ.रामचन्द्र दूबे,विश्वविमोहन शर्मा, डॉ.ऋचा राय, डॉ.सन्तोष तिवारी, प्रवीण शुक्ल आदि ने अपने विचार रखे।

         दूसरे सत्र में कवियों ने अपनी गीत-कविताओं के द्वारा पूरे परिवेश को रसमय बना दिया। श्रोताओं की तालियों से रह-रह कर सभागार गुंजायमान होता रहा। कवियों में अनन्त देव पाण्डेय ‘अनन्त’,हरिनारायण हरीश,ओम धीरज,डॉ.कमलेश राय, कुमार शैलेन्द्र, कामेश्वर द्विवेदी, मिथिलेश गहमरी, विनय राय ‘बबुरंग’, अमरनाथ तिवारी ‘अमर’, डॉ.अक्षय पाण्डेय, गोपाल गौरव, मृत्युंजय राय ‘अमर’आदि ने काव्यपाठ किया। इस संगोष्ठी में श्रोता के रूप में डॉ.प्रभाशंकर पाण्डेय, डा.स्वाति मिश्र, विनोद कुमार मिश्र, मनोज कुमार मिश्र,परमहंस राय, जितेन्द्र मिश्र, शिवम् पाण्डेय आदि उपस्थित रहे।अन्त में संस्था के संगठन सचिव प्रभाकर त्रिपाठी ने  समस्त सहभागी वक्ता-कवि गण एवं आगंतुक श्रोताओं के प्रति आभार व्यक्त किया।

Views: 46

Leave a Reply