वासना को समाप्त करने के लिए उपासना आवश्यक

ससमारोह सम्पन्न हुआ महामंडलेश्वर स्वामी का आविर्भाव दिवस 

गाजीपुर। सिद्धपीठ हथियाराम के 26वें पीठाधिपति पूज्यपाद प्रातः स्मरणीय महामण्डलेश्वर स्वामी श्री भवानीनन्दन यति महाराज का अवतरण दिवस राधाष्टमी के  पावन पर्व पर शुक्रवार को समारोह पूर्वक सम्पन्न हुआ।

         कउल्लेखनीय है कि देवभूमि उत्तराखंड की पावन धरा पर जन्मे स्वामी भवानी नन्दन यति जी महाराज का 23 फरवरी 1996 को सिद्धपीठ हथियाराम के 26वें पीठाधिपति के रूप में  आगमन हुआ था। एक सिद्ध साधक और अनुभोक्ता के रूप में धर्म संस्कृति को बचाने और बनाये रखने हेतु सतत प्रयत्नशील स्वामी भवानी नन्दन यति जी महाराज त्याग, करुणा और श्रद्धा की त्रिवेणी हैं। विद्वत्ता प्राप्त करने से ज्यादा सज्जनता को अंगीकार करने का संदेश देने वाले जूना अखाड़ा के वरिष्ठ महामंडलेश्वर स्वामी भवानी नन्दन यति जी महाराज द्वारा सिद्ध संतों की परंपरा का निर्वहन करते हुए किए जाने वाले चातुर्मास अनुष्ठान के दौरान श्रद्धालुओं व भक्तों द्वारा राधाष्टमी को उनका अवतरण दिवस मनाया जाता है। इस पावन बेला पर सर्वप्रथन उन्होंने गौशाला में जाकर गोमाता की पूजा किया, तत्पश्चात बुढ़िया माता और मां सिद्धेश्वरी मंदिर में तथा यज्ञ मंडप में पूजा अर्चना किया। 

        कन्या महाविद्यालय हथियाराम की छात्राओं ने सामुहिक रूप से सस्वर गीता पाठ व स्वागत गायन किया तो वहीं उमड़ते श्रद्धालु भक्तों ने पीठाधिपति का भव्य अभिनंदन वंदन कर चरणरज ली। वहीं इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गोल्ड मेडलिस्ट रहे रत्नेश दूबे सहित राम अलम सिंह मधुर और अन्य गायक कलाकारों ने भजन प्रस्तुत किया। 

       इस अवसर पर संतो और विद्वजनों ने प्राचीन सनातन संस्कृति की महत्ता का वर्णन करते हुए सनातन संस्कृति पर आसन्न संकट को दूर करने के लिए सदगुरुओं के मार्ग दर्शन में आगे आकर इसकी रक्षा करने का आह्वान किया।

        वाराणसी के अपर आयुक्त विश्वभूषण मिश्रा ने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि सनातन संस्कृति पर आसन्न संकट को दूर करने के लिए इससे जुड़े लोगों को ही आगे आना होगा। मौजूदा समय मंचों के माध्यम से सनातन संस्कृति को समाप्त करने की धमकी दी जा रही है, जिसे मुंहतोड़ जबाव देने के लिए महामंडलेश्वर जैसे सदगुरुओं के मार्ग दर्शन में जन सामान्य को आगे आना होगा। उन्होंने श्रीराम के प्रसंग को उद्धृत करते हुए कहा कि यदि श्रीराम चाहते तो भरत से कहकर सेना बुलवाकर लंकाधिपति रावण पर विजय प्राप्त कर सकते थे, लेकिन उन्होंने आमजन को आगे करके लंका पर विजय प्राप्त करके यह संदेश देने का काम किया कि राक्षसी संस्कृति पर सदगुरू के मार्ग दर्शन में कार्य करते हुए विजय प्राप्त किया जा सकता है। साध्वी निष्ठा ने कहा कि महापुरुषों का अवतरण होता है और यह हमें संसार रूपी कुंए से बाहर निकालने का काम करते हैं। 

          महाराज श्री द्वारा मंचीय कार्यक्रम का आरंभ ब्रह्मलीन संत स्वामी बालकृष्ण यति महाराज के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। अपने उद्बोधन में स्वामी भवानी नन्दन यति ने कहा कि जन्म उत्सव के प्रति मेरा कोई उत्साह नहीं लेकिन श्रद्धालुओं की भावनाओं का सम्मान करना मेरे जीवन का सौभाग्य है। उन्होंने कहा कि आज के दिन मुझे आप सभी श्रद्धालुओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह मेरे लिए सौभाग्य का दिन है कि मैं आप लोगों से आशीर्वाद प्राप्त करता हूं। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म ही एक ऐसा धर्म है जो विश्व का कल्याण हो, के ध्येय वाक्य पर विश्वास करता है। कहा कि सभ्य समाज के लिए अभिशाप बनते जा रहे वासना को समाप्त करने के लिए उपासना से जुड़ना होगा। कहा कि सरसंघ चालक मोहन भागवत जी जैसे महापुरुष यदि इस मठ पर आते रहे तो यह मठ महामंदिर बन जायेगा। 

         इस अवसर पर जंगीपुर विधायक वीरेन्द्र यादव, संत देवरहा बाबा, आचार्य सुरेश, हिन्दुस्तान स्टील के मैनेजिंग डायरेक्टर सुभाष सिंह, पीजी कॉलेज मलिकपुरा के प्राचार्य प्रोफेसर दिवाकर सिंह, हथियाराम महिला पीजी कॉलेज के प्राचार्य डा. रत्नाकर त्रिपाठी, मंगला प्रसाद, डा. सानंद सिंह, अशोक सिंह, डा. संतोष मिश्रा, लुट्रर राय, डा. अमिता दूबे, वीणा मिश्रा, रिंकू सिंह, आरती सिंह, अंजू सिंह, राखी मिश्रा, सुनीता मौर्य, दिव्यांग सविता सिंह, केडी सिंह सहित अनेक गणमान्य लोग और मठ से जुड़े श्रद्धालु नर नारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सफल संचालन सादात के ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि संतोष यादव ने किया। अंत में पुण्य लाभ की कामना के साथ भंडारा से महाप्रसाद ग्रहण के उपरान्त कार्य क्रम का समापन हुआ।

Views: 54

Leave a Reply