गड्ढे में तब्दील हुई सड़क, आस पास के लोग अपने मकानों को लेकर चिंतित

लोगों के विरोध पर अधिकारी दे रहे धमकी

गाजीपुर। शहर में सीवेज पाईप लाईन बिछाने के नाम पर सड़कों पर की गयी बेतरतीब खुदाई और उन पर बने गड्ढों के चलते आवागमन दुष्कर हो गया है।

            उल्लेखनीय है कि शहर मे सीवेज पाइप लाइन बिछाने का काम विगत तीन सालों से चल रहा है। लेकिन कार्यदायी संस्था की लापरवाही से काम पूरा तो नही हुआ, लेकिन लोगों की जिन्दगी नारकीय हो गयी है। इतना ही नही सीवेज निर्माण के दौरान लोगों की सुरक्षा को लेकर बड़ी लापरवाही भी बरती जा रही है। 

              बताते चलें कि शहर के सब्जी मंडी इलाके के आगे के चौराहे पर छह माह पहले सीवेज पाइप लाइन बिछाने के लिये बड़ा गड्ढा खोदा गया था । तब से ही इस व्यस्ततम इलाके के लोगों का गमनागमन वाधित हो गया था। स्थानीय लोगों का आरोप है कि इस गड्ढे को कई बार भरा गया,और कुछ दिन बाद फिर कार्यदायी संस्था ने खोदा। इस दौरान लोगों की पेयजल पाइप लाइन और इलेक्ट्रिकल केबिल भी ध्वस्त हो गयी‌। इसी बीच कुछ दिन पहले फिर से चौराहे पर सीवेज पाइप लाइन निर्माण के नाम पर फिर 10-15 फिट गहरा गड्ढा खोदा गया जिसमें पानी भर गया। इससे लोगों को आवागमन मे भारी मुसीबत झेलनी पड़ी। इसी बीच बनी हुई सड़क गुरुवार को अचानक  धंसने लगी और पानी से भरे गड्ढे के रूप में तब्दील हो गई, और आसपास की सड़क भी धंस गयी।

      लोगों की शिकायत पर एडिसनल एसडीएम मौका मुआयना करने पहुंचे, तबतक वहां कई ट्रैक्टर बालू सड़क के गड्ढों में भर दिया गया। लोगों द्वारा इसका विरोध करने पर वह लोगों को ही खामोश करते रहे। उन्होंने सरकारी काम में बाधा उत्पन्न करने वालों को थाने में बैठाने और देख लेने तक की धमकी दे डाली। सड़क धंसने के बाद आसपास के लोगों को अपने घर गिरने और अपनी जानमाल की आशंका सता रही है ।

    बताया जा रहा है कि यह समस्या नगर के चीतनाथ घाट ,स्टीमर घाट ,  टाउन हाल, प्रकाश टाकीज, लाल दारवाजा, कोतवाली, मिश्र बाजार , अफीम फैक्ट्री, गोराबाजार समेत अन्य कई इलाकों में भी देखी जा सकती है।

    स्थानीय लोगों की मानें तो यह सड़क नगर का मुख्य मार्ग है जो बनने के बाद भी धंस जा रहा है।विभागीय अधिकारी सब कुछ जानते हुए भी मौन साधे हैं। यदि समय रहते इस समस्या का समाधान नहीं हुआ तो कभी भी कोई अप्रिय हादसा हो सकता है जिसकी सारी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

Views: 47

Leave a Reply