राम जानकी मंदिर ठाकुरद्वारा के महंत पंचतत्व में विलीन

 गाज़ीपुर। अति प्राचीन राम जानकी मंदिर ठाकुरद्वारा यूसुफपुर खड़वा के परम तेजस्वी ,वैष्णव उपासक, वीतरागी मनोभाव के पोषक ,सर्वे भवंतु सुखिन: की संकल्पना के अनुरक्षक, राग और अनुराग पर विजय प्राप्त करने वाले महंत हरि प्रपन्न दूबे का 101वर्ष की अवस्था में महाशिवरात्रि के ब्रह्ममुहुर्त में अपने पंचभूत शरीर का त्याग कर दिया।
             प्रियंका इंटरनेशनल स्कूल यूसूफपूर के प्रबन्धक कृष्ण दत्त द्विवेदी के पितामह हरि प्रपन्न दूबे के गोलोकवासी होने की खबर मिलते ही गांव सहित पूरे क्षेत्र में शोक की लहर फैल गयीऔर लोगों की भीड़ उनके अंतिम दर्शन हेतु उमड़ पड़ी। उनका पार्थिव शरीर भक्त व जनता दर्शन हेतु दोपहर तक अति प्राचीन राम जानकी मंदिर यूसुफपुर खड़बा के पावन प्रांगण में रखा गया। वहां लोगों ने उनके पार्थिव शरीर पर अपने श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके उपरांत पार्थिव शरीर की शव यात्रा यूसुफपुर खड़वा से भगवान भोलेनाथ की पावन धरती काशी के लिए निकली। वाराणसी के  मणिकर्णिका घाट पर गुरुदेव के पुत्र अक्षयवट द्विवेदी ने मुखाग्नि देकर नश्वर शरीर के पंचतत्व में विलीन होने के कार्य को पूर्ण किया।

…स……

Views: 83

Leave a Reply