गर्भवती के भरपूर पोषण से ही होगा स्वस्थ बच्चे का जन्म – राज्यपाल 

प्रमाण पत्र पाकर खिले लाभार्थियों के चेहरे राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मंगलवार को बाइफरकेशन से नेपाली के सीमावर्ती गांव, पीलीभीत जिले के तहसील कलीनगर के नौजल्हा नकटा पहुंचीं।
आंगनबाड़ी केन्द्र में आयोजित जन संवाद कार्यक्रम मे भागीदारी निभाने हेतु पहुंची राज्यपाल ने जन संवाद के दौरान सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही राज्यपाल ने स्कूली बच्चों को खिलौने और लाभार्थियों को प्रमाण पत्र भी सौंपे। जन संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि जब गर्भवती को भरपूर पोषण मिलेगा तो स्वस्थ बच्चे का जन्म होगा। इससे समाज में स्वस्थ बच्चों की संख्या बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि जब कोई गर्भवती कुपोषित बच्चे को जन्म देती है तो परिवार को भी समस्या आती है और सरकारों की भी चिन्ता बढ़ जाती है।स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। ऐसे में महिलाओं और बच्चों को पोषण से भरपूर भोजन मिलना चाहिए। राज्यपाल ने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में मौजूद महिलाओं को इस बात के लिए भी प्रेरित किया कि वे अपने परिवार में सास-ससुर का भी ध्यान रखें। उन्हें भी पोषणयुक्त आहार मिलना चाहिए। उन्होंने महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की समस्या को प्राथमिकता के आधार पर दूर किए जाने की आवश्यकता पर बल दिया। कार्यक्रम में काफी संख्या में बंगाली समाज के लोग मौजूद रहे परन्तु वे अपनी समस्या राज्यपाल तक न पहुंचने से खिन्न दिखे। बताते चलें कि ये बंगाली समाज के वही लोग हैं जो बंगलादेश देश से विस्थापन के दौरान 1965 में शारदा की तलहटी पर आकर बस गये‌, जिनकी संख्या लगभग 60 हजार है। वर्तमान में 10 से अधिक गांव में ये लोग अपना जीवन यापन करते हैं। इसके बावजूद आज तक इनकी नागरिकता का कोई समाधान नहीं हुआ। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के दौरे को लेकर बंगाली समाज के लोगो में उम्मीद थी कि उनकी इस पुरानी समस्या का भी समाधान होगा लेकिन अधिकारियों ने पहले ही जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों को अपनी बात रखने से मना कर दिया। रिपोर्ट – श्रवण यादव


Hits: 66

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: