बाढ़ से बचाव हेतु तैयारियों के बारे में पी पी टी प्रस्तुतिकरण के माध्यम से दी जानकारी

गाजीपुर। उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वरिष्ठ सलाहकार ’ब्रिगेडियर प्रमोद कुमार सिंह’ की अध्यक्षता में बाढ़ आपदा एवं बचाव तथा मॉक एक्सरसाइज की महत्वत्वूर्ण अन्तर्विभागीय समीक्षा बैठक जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण/राईफल क्लब सभागार में सम्पन्न हुई।
बैठक में सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को संभावित बाढ़ से बचाव को लेकर की जाने वाली तैयारियों के बारे में पी पी टी प्रस्तुतिकरण के माध्यम से जानकारी दी गई। बिग्रेडियर श्री सिंह ने विभागीय अधिकारियों को आपदाओं के दौरान होने वाले नुकसान को कम से कम करने के बारे में तमाम बारीकियां बताते हुए अधिकारियों को शासन से उनके निर्धारित दायित्वों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आपदाओं से निपटने के लिए शासन स्तर से जनपद में इंसीडेन्टस रिस्पान्स सिस्टम के तहत विभागीय अधिकारियों की जिम्मेदारियां तय की गई हैं। उन्होंने स्वास्थ्य, पुलिस, फायर, बाढ़ खण्ड, पंचायतीराज, कृषि, वन विभाग, नगर निकायों, लोक निर्माण विभाग, परिवहन, पशु पालन, शिक्षा, जल निगम, विद्युत तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि सभी अधिकारी अपने-अपने विभागो के दायित्वों के क्रम में बाढ़ से पूर्व तैयारियां कर लें ताकि बाढ़ आपदा के दौरान त्वरित सहायता मुहैया कराई जा सके। उन्होंने कहा कि इसके लिए समुदाय को जागरूक करने के साथ ही सूचना तंत्र को भी मजबूत करना होगा।
उन्होंने जलवायु परिवर्तन पर विशेष व्याख्यान देते हुए जलवायु परिवर्तन के कारण आने वाली आपदाओं पर प्रकाश डाला तथा जलवायु परिवर्तन के आपदा से सम्बन्ध के बारे में विस्तृत रूप से बताया।
बैठक में ब्रिगेडियर प्रमोद कुमार सिंह ने अधिकारियों को बताया कि विगत तीन वर्षों में प्रदेश में वज्रपात से 1100 से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है। उन्होंने कहा कि वज्रपात से होने वाली घटनाओं में हम बड़े पैमाने पर कमी ला सकते हैं। उन्होंने सभी अधिकारियों से अपील किया कि वे सब स्वयं अपने मोबाइल में वज्रपात की सूचना देने वाले महत्तपूर्ण दामिनी एप को डाउनलोड करें तथा अपने अधीनस्थ सभी कर्मचारियों के साथ-साथ जनसामान्य के मोबाइल में यह एप जरूर डाउनलोड कराएं। उन्होंने बताया कि दामिनी एप वज्रपात की सटीक सूचना उपलब्ध कराता है, इसलिए इस एप का व्यापक प्रचार-प्रसार भी कराएं जिससे वज्रपात से होने वाली मृत्यु में कमी लाई जा सके। बैठक में उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशन में आगामी जुलाई माह में बाढ़ से बचाव के लिए प्रदेश स्तरीय मॉक ड्रिल कराई जाएगी। अपर जिलाधिकारी वि0रा0 द्वारा निर्देशित किया गया कि जिला प्रशासन के दिये गये निर्देश के क्रम में बाढ़ से पूर्व जो भी तैयारिया हैं, उसे समय से पहले पूर्ण कर लिया जाये ताकि बाढ़ के दौरान क्षति न्यून हो सके। उन्होने उपस्थित अधिकारियों को कार्य योजना मे दिये गये मोबाइल नम्बर को वेरिफाई कर अपडेट करने का निर्देश दिया।
बैठक में आपदा विशेषज्ञ अशोक राय द्वारा विगत पांच वर्षाे में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण गाजीपुर के तहत किये गये कार्याे की प्रस्तुति पी पी टी के माध्यम से बताया गया। उन्होने बताया कि डाटा कलेक्शन से एक्शन तक का कार्य डी डी एम ए मे त्वरित स्तर पर किया जाता है। उन्होंने इस बात पर विशेष जोर दिया कि हमें आपदा प्रबंधन का समावेश इस प्रकार करना है कि राहत कार्य की आवश्यकता कम से कम पड़े। बैठक में जिला विद्यालय निरीक्षक ओ पी राय, जिला पूर्ति अधिकारी कुमार निर्मलेंदू, तहसीलदार सदर, जे.ई.मास्टर प्लान अखिलेश ओझा, जिला आपदा विशेषज्ञ अशोक राय, आपदा लिपिक प्रहलाद यादव, सुभाष प्रसाद नेहरू युवा केन्द्र, एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।


Hits: 29

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: