गंगा नदी से तीन शव बरामद, सेमराघाट पर फैला रहा सन्नाटा

गाजीपुर। रिश्तेदारी में जन्मदिन मनाने के बाद सुबह गंगा स्नान करते समय गंगा नदी में डूबे अन्य तीन शव भी काफी मशक्कत के बाद एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीम ने शनिवार को ढुंढ निकाला।
बताते चलें कि मुहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र के सेमरा निवासी युगल किशोर उपाध्याय के घर गुरुवार को जन्मदिन का कार्यक्रम आयोजित था। जिसमें सम्मिलित होने के लिए उनके रिश्तेदार भी अपने घरों से आये थे। गुरुवार को हर्षोल्लास के साथ जन्मदिन कार्यक्रम पूर्ण हुआ था। शुक्रवार की सुबह गांव परिवार के साथ उपाध्याय परिवार के यहां आये रिश्तेदार आजमगढ़ जिले के सुरहुटपुर निवासी अंकित तिवारी (14 वर्ष) उसकी बहन सारिका उर्फ तन्नू (28वर्ष) और जौनपुर जिला के चंदवक थाना क्षेत्र के बरमनपुर गांव निवासी जयसिंह शर्मा (42वर्ष) तथा उनका पुत्र ओम शर्मा (14वर्ष) सहित अन्य लोग गंगा स्नान के लिए गांव के सेमराघाट जा पहुंचे और स्नान करने लगे। उसी दौरान रिश्तेदारी में आयी एक किशोरी गहरे पानी में डूबने लगी। उसकी चीख पुकार सुनकर उसे बचाने के फेर में आगे बढ़े लोग स्वयं डूबने लगे। यह देखकर वहां स्नान कर रहे लोगों ने किसी तरह एक किशोरी प्रिया तिवारी को तो बचा लिया जबकि अन्य चार लोग गंगा के गहरे जल में समा गये।
यह सूचना गांव में पहुंचते ही उपाध्याय परिवार में कोहराम मच गया और लोग भागते हुए सेमराघाट पहुंचे तबतक वहां लोगों की भीड़ लग गयी थी।
परिवार के करुणा क्रन्दन से वहां मौजूद लोगों की आंखें नम रहीं। घटना की सूचना मिलते ही उपजिलाधिकारी मुहम्मदाबाद आशुतोष कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी रवीन्द्र कुमार वर्मा एवं कोतवाली प्रभारी अशोक मिश्र घटनास्थल पर पहुंच ग्रामीण,मल्लाह व गोताखोरों की सहायता से शवों की खोज में लग गये। काफी प्रयास के बाद गहरे पानी से अंकित तिवारी का शव निकाला जा सका। अन्य तीन शवों की तलाश देर शाम तक जारी रही परन्तु सफलता नहीं मिली।
घटना की सूचना पर जिलाधिकारी एम पी सिंह व पुलिस अधीक्षक रामबदन सिंह मौके पर पहुंचकर लोगों से घटना की जानकारी ली तथा परिजनों से मिलकर सांत्वना दी।
शनिवार की सुबह सेमराघाट पर फिर लोगों की भीड़ जूट गयी और लोग शवों को लेकर चर्चाएं करते रहे। वहीं मौके पर पहुंची एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम ने डूबे लोगों की तलाश शुरु की और काफी मशक्कत के बाद टीम ने जयसिंह शर्मा,उनके पुत्र ओम शर्मा तथा किशोरी सारिका तिवारी के शव को गहरे पानी से,बरामद कर लिया। शवों को देख वहां मौजूद उनके परिजनों की चीख पुकार से पूरा सेमराघाट गमगीन हो गया। अश्रुपूरित नेत्रों से लोग एक दूसरे को सांत्वना देने में लगे रहे।


Hits: 61

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: