हथियाराम मठ – चातुर्मास महानुष्ठान की पूर्णाहुति कल

महामंडलेश्वर भवानीनंदन यति द्वारा द्वादश ज्योतिर्लिंग के साथ ही पशुपतिनाथ तक आयोजित किया जा चुका है चातुर्मास व्रत


गाजीपुर। सिद्धपीठ हथियाराम मठ के 26वें पीठाधीश्वर व जूना अखाड़े के वरिष्ठ महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति जी महाराज द्वारा अपने 26वें चातुर्मास महानुष्ठान की पूर्णाहुति कल दिन सोमवार को किया जायेगा।
      गौरतलब हो कि अध्यात्म जगत में एक तीर्थ स्थल के रूप में विख्यात सिद्धपीठ हथियाराम मठ के 26वें पीठाधीश्वर श्री यति जी द्वारा सिद्धपीठ की गद्दी पर आसीन होने के साथ ही अपने गुरुजनों की प्रेरणा से व उनके ही मार्ग का अनुसरण करते हुए चातुर्मास अनुष्ठान का संकल्प लिया गया। इस क्रम में उन्होंने देश के कोने कोने में स्थित भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंग स्थानों पर लगातार प्रवास कर इस अनुष्ठान को पूरा किया। इसके साथ ही उन्होंने नेपाल की धरती पर स्थित पशुपतिनाथ भगवान मंदिर व अन्य तीर्थ स्थलों पर अपना चातुर्मास अनुष्ठान पूरा किया। फिलहाल उनके द्वारा पिछले कुछ वर्षों से सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर ही चातुर्मास अनुष्ठान का आयोजन किया जा रहा है। आषाढ़ पूर्णिमा (गुरुपूर्णिमा) तिथि पर गुरुपूजा के साथ शुरू हुए इस अनुष्ठान की पूर्णाहुति भादों पूर्णिमा के अवसर पर 20 सितंबर सोमवार को सिद्धपीठ पर किया जायेगा। इस दौरान काशी के प्रकांड वैदिक विद्वान सुरेश जी त्रिपाठी के आचार्यत्व में पूर्णाहुति महायज्ञ किया जायेगा। इस अवसर पर संत सभा का आयोजन किया गया है। जिसमें भाग लेने के लिए जूना अखाड़ा के कई महामंडलेश्वर संत वैदिक विद्वान व सामाजिक हस्तियों सहित सिद्धपीठ से जुड़े देश के कोने-कोने से शिष्य श्रद्धालुओं सहित गणमान्य से जनसामान्य तक विद्वत जन संत महात्माओं की उपस्थिति रहेगी। इसके निमित्त सिद्धपीठ पर सारी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं।
         इसके सन्दर्भ में जानकारी देते हुए महामंडलेश्वर स्वामी श्री यति जी महाराज ने बताया कि सिद्धपीठ पर होने वाले पूर्णाहुति समारोह में कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतः पालन किया जायेगा। प्राचीन परंपरानुसार यज्ञ की पूर्णाहुति कार्यक्रम सम्पन्न होगा जिसमें शिष्य श्रद्धालुओं के साथ ही सभी लोगों द्वारा कोविड प्रोटोकाल का पालन अनिवार्य रूप से किया जायेगा।

Hits: 51

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: