कोरोना काल में बच्चों एवं बुजुर्गों का रखें ख्याल

गाजीपुर। कोरोना संक्रमण की फैल रही दूसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरा बुजुर्गों व बच्चों को है। कोरोना काल में बुजुर्ग माता-पिता व बच्चे के स्वास्थ्य का ध्यान रखना जरूरी है। उनमें किसी भी प्रकार की समस्या आने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श लें और आवश्यक जांच करायें।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी व बाल रोग विशेषज्ञ डॉ उमेश कुमार ने बताया कि इस वक्त यदि बच्चे की तबियत बिगड़ती है तो लापरवाही न करें। उन्होंने बताया कि इन दिनों बच्चों में सर्दी-जुकाम के साथ हल्का बुखार, कुछ बच्चों में उल्टी और डायरिया की शिकायत, हल्की खांसी होना कोविड के लक्षण हैं। यदि बच्चों में इस प्रकार की समस्या हो तो शीघ्र डॉक्टर से संपर्क करें। उन्होंने बताया कि जब बच्चा बीमार हो तो इस दौरान बच्चे को पानी भरपूर मात्रा में पिलाएं। इसके साथ ही प्रोटीन युक्त भोजन बच्चे को खिलाएं। बच्चे को सफेद अंडा या दाल और सोयाबीन खिलाएं, छोटे बच्चों को दाल का पानी पिला सकते हैं।
डॉ. उमेश कुमार ने बताया कि बच्चा व बुजुर्गों में जरा सी भी कमजोरी दिख रही है, खाना नहीं खा रहा है, बच्चे की पसलियां चल रही हैं या बच्चे को दौरा आ रहा है तो ऐसे में लापरवाही न बरतें और तुरंत कोविड सेंटर में संपर्क करें या चिकित्सक से तुरंत सलाह लें। उन्होंने बताया कि बच्चे को बुखार, खांसी होने पर पैरासीटामोल सीरप, एजीथ्रोमाइसिन सीरप, जिंक सीरप डॉक्टर की सलाह से दें क्योंकि बच्चों में वजन के हिसाब से दवा की डोज दी जाती है।
डॉ उमेश कुमार ने बताया कि बच्चों को इन दिनों कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए घर के भीतर ही रखें। उन्हें घर पर ही खेलने दें। घर के वह सदस्य जो इन दिनों बाहर जाते हैं, वह बच्चों से थोड़ी दूरी बनाए रखें। घर पर आएं तो सबसे पहले खुद को साफ करें और इसके बाद ही बच्चे के नजदीक जायें। बच्चों में भी साफ-सफाई की आदत डालें, समय-समय पर हाथ धोने के लिए कहें और उनके खाने का ध्यान रखें। उन्हें बाहर के खाने से दूर रखें।


Hits: 68

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: