भटनी- औड़िहार रेल खण्ड के विद्युतीकरण का संरक्षा परीक्षण रेल संरक्षा आयुक्त पूर्वोत्तर परिक्षेत्र ने लिया जायजा

वाराणसी 10 अगस्त, 2020। रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री सुविधा में उन्नयन एवं परिचालनिक सुगमता हेतु पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के भटनी- औड़िहार रेल खण्ड के विद्युतीकरण पूर्ण होने के उपरांत इस रेल खण्ड का संरक्षा परीक्षण रेल संरक्षा आयुक्त पूर्वोत्तर परिक्षेत्र मोहम्मद लतीफ़ खान द्वारा सम्पन्न हुआ ।जनसम्पर्क अधिकारी,वाराणसी अशोक कुमार ने बताया कि इस अवसर पर उनके साथ मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण रामकरण यादव, प्रमुख मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर श्रीकान्त सिंह,मुख्य संरक्षा अधिकारी एस.एन.साहु ,प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर ए.के.गुप्ता, प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर/निर्माण संतोष एन.देरवा,अपर मंडल रेल प्रबंधक (इन्फ्रा) प्रवीण कुमार, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक रोहित गुप्ता, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर /कर्षण पंकज केशरवानी,वरिष्ठ मंडल इंजीनियर तृतीय अतुल त्रिपाठी, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर/सामान्य सत्येन्द्र यादव,वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर आशुतोष पाण्डेय एवं निर्माण संगठन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे ।
गोरखपुर- वाराणसी रेल खण्ड में पड़ने वाले भटनी- औड़ीहार सेक्शन एवं इसमें पड़ने वाले स्टेशनों के मध्य विद्युतीकरण कार्य के पूर्ण होने फलस्वरूप संरक्षा मानकों को परखने के लिए रेल संरक्षा आयुक्त पूर्वोत्तर परिक्षेत्र मोहम्मद लतीफ़ खान अपने निरीक्षण स्पेशल से प्रातः 08:45 बजे भटनी जं से रवाना होकर सलेमपुर में फुट ओवर ब्रिज,रेलवे ओवर ब्रिज, इंजीनियरिंग गैंग सं-10 किमी सं-55/4-5 पर ओवरहेड इलेक्ट्रिक क्रासिंग (हाई टेंशन केबल) का निरिक्षण करते हुए इन्दारा पहुँचे जहाँ उन्होंने स्टेशन पैनल, न्यूट्रल सेक्शन,समपार फटक संख्या-04सी , किमी सं-61 के कर्वेचर,इन्दारा-मऊ के मध्य ब्रिज सं-72 का निरिक्षण करते हुए मऊ पहुँचे। मऊ स्टेशन से निरीक्षण प्रारंभ करते हुए पावर सब स्टेशन, ओवरहेड लाइन क्लियरेंस, प्लेटफार्मों से ट्रैक्शन टावरों की मानक दुरी , ओवरहेड लाइन की बर्थिंग ट्रैक से स्टैण्डर्ड दुरी एवं स्टेशन वर्किंग रुल में विद्युतीकृत मानकों के अनुसार परिवर्तनों का गहन निरीक्षण किया । इसके उपरांत वे दुल्लहपुर पहुँचे जहाँ उन्होंने पावर सब स्टेशन ,स्टेशन पैनल,ओवरहेड लाइन आपात कंट्रोल सिस्टम का निरीक्षण किया ।


इसके बाद उन्होंने दुल्लहपुर-सादात के मध्य ब्रिज संख्या-116 का व्यापक निरिक्षण किया और ट्रैक रेल और अर्थ रेल में आइसोलेशन सुनिश्चित किया तदुपरांत वे इस खण्ड में पड़ने वाले समपार फाटकों का निरीक्षण करते हुए औड़िहार जक्शन पहुँचें ।
रेल संरक्षा आयुक्त द्वारा औड़ीहार – भटनी रेल खण्ड में पड़ने वाले सभी स्टेशनों के रिले रूम, क्रेक हैंडल, प्लेटफार्म क्लियरेंस, ओएचई की बॉक्स, फायर सेफ्टी यंत्र, संट्रन सिस्टम यंत्र आदि का गहन निरीक्षण किया साथ ही रिले कक्ष, आईपीएस कक्ष, उपकरण एव अनुरक्षक कक्ष का भी निरीक्षण कर स्टेशन अधीक्षक और उपस्थित अधिकारियों को कई निदेश दिया । उन्होंने इस रेल खण्ड के विद्युतीकृत रेल खण्ड , ओवरहेड लाइनों के मध्य मानक दूरी,विद्युतीकृत खण्ड पर संस्थापित नये सिगनलों और साईंटिंग बोर्ड की मानक स्थिति, कर्वेचर पर पर्याप्त क्लियरेंस ,पुल एवं पुलिया के एक्सटेंशन , पॉइंट्स एंड क्रासिंग, ओवर हेड लाइन,विद्युत् पोल, पावर सब स्टेशन , ओवरहेड लाइन फिटिंग्स, विद्युतिकृत कलर लाइट सिगनल, आर ई एरिया साईटिंग बोर्ड,हाई वोल्टेज चेतावनी बोर्ड, सड़क अंडरपास, इंटरलॉकिंग गेयर,रिले रूम,कंट्रोल पैनल ,मानिटरिंग पैनल एवं समपारों आदि का गहन निरीक्षण किया ।
रेल संरक्षा आयुक्त का प्रेक्षण यान विद्युत इंजन के साथ अधिकतम रफ्तार से स्पीड ट्रायल के लिए औड़ीहार स्टेशन पर खड़ा था ।

Hits: 14

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: