सूखे के बीच उफनती गंगा नदी 

गाज़ीपुर। सूखे की मार झेल रहे किसान एक तरफ जहां बरसात में होने के कारण चिंतित हैं और अपने धान की फसल की बुवाई भी ढंग से नहीं कर पाए वहीं गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से किनारे बसे लोगों पर बाढृ का खतरा मंडराने लगा है।

     शनिवार को सुबह से ही गंगा का जल स्तर बढ़ाव पर रहा। वर्तमान में गंगा नदी खतरा बिंदु से नीचे बह रही हैं और जलस्तर 2 सेंटीमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से बढ़ता पाया गया। सुबह गंगा का जलस्तर 58.750 मीटर रिकॉर्ड किया गया। 

   बताते चलें कि सामान्य जलस्तर  59.906 मीटर होता है। चेतावनी बिंदु 61.550 मीटर, खतरा बिन्दु 63.105 मीटर तथा बाढ़ का उच्च स्तर   65.220  मीटर निर्धारित है।

     उल्लेखनीय है कि वर्ष 2019 में बाढ़ का उच्च जलस्तर 64.530 मीटर, वर्ष 2021 बाढ़ का उच्च जलस्तर 64.680 मीटर तथा वर्ष 2022 बाढ़ का उच्च जलस्तर 64.390 मीटर रहा है ।

Views: 95

Leave a Reply