पीएम श्री योजना में जिले के 36 परीषदीय स्कूल बनेंगे मॉडल

गाजीपुर। देश के नौनिहालों की बुनियाद को और मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार परिषदीय स्कूलों को अपग्रेड करने का प्लान मूर्त रुप लेने लगा है। पीएमश्री (प्राइम मिनिस्टर स्कूल फॉर राइजनिंग इण्डिया) योजना का मकसद पूरे भारत में विकास और उन्नयन होगा, जो देश की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की भावनाओं से भरे होंगे। पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप देने एवं बच्चों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ने के लिए शुरू की गयी नई योजना के तहत प्रदेश के चयनित 1753 स्कूलों में जिले के 36 स्कूल अपग्रेड होंगे। इसमें मनिहारी ब्लाक के रामपुर जीवन का कम्पोजिट विद्यालय व अकरांव के विद्यालय और सादात ब्लाक का कम्पोजिट विद्यालय जगदीशपुर और प्राथमिक विद्यालय भंवरूपुर भी शामिल है। उच्चीकृत होकर यह दोनों विद्यालय ब्लाक के लिये मॉडल स्कूल बनेंगे, जो पूरी तरह राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के अनुरूप संचालित होंगे। कक्षा विस्तार के साथ ही इन विद्यालयों के बच्चों की पढ़ाई आधुनिक, परिवर्तनकारी और समग्र तरीके से होगी। इन स्कूलों में नवीनतम तकनीक, स्मार्ट क्लासरूम, खेल और अन्य सहित आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी ध्यान दिया जाएगा। इन स्कूलों में स्मार्ट क्लास के साथ ही कंप्यूटर लैब से लेकर प्रयोगशाला और अन्य जगहों पर भी नवीनतम टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाएगा। यह स्कूल विद्या समीक्षा केंद्र से जोड़े जाएंगे, जो स्कूल, शिक्षक, विद्यार्थी सबकी परफॉर्मेंस की समीक्षा करेगा। इन विद्यालयों में नई शिक्षा नीति के तहत बेहतर शिक्षा और मॉडल स्कूल की तरह सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए शिक्षा विभाग को बजट आवंटित किया जाएगा। साथ ही इन विद्यालयों में कक्षाओं का भी विस्तार होगा। इस योजना के तहत चयनित विद्यालयों में प्ले ग्रुप से लेकर इंटरमीडिएट तक की कक्षाएं संचालित करने की योजना है। इन स्कूलों में पढ़ने पढ़ाने, सीखने सिखाने के लिए ज्यादा से ज्यादा एक्सपेरिमेंटल, ट्रांसफॉर्मेशनल और ऑलराउंड डेवलपमेंट/ इंटीग्रेटेड मेथड (जिसमें इनडोर, आउटडोर हर तरह की एक्टिविटी होगी) अपनाए जाएंगे। इन स्कूलों में डिस्कवरी ओरिएंटेड और लर्निंग सेंट्रिक टीचिंग मेथड लागू होगा। अर्थात इस तरीके से पढ़ाया जाएगा कि बच्चों में नई चीजें सीखने और खोज करने की क्षमता विकसित हो सके न कि रटने की। खेल-खेल में सीखने और टॉय बेस्ड टीचिंग होगी। सिर्फ पढ़ाई ही नहीं, खेल की सुविधाओं में भी ये स्कूल अव्वल बनाए जाएंगे। यहां हर लोकप्रिय स्पोर्ट्स, गेम्स खेलने, सीखने के मौके होंगे। पीएमश्री स्कूल्स में आर्ट रूम भी होंगे। यानी बच्चों की पर्सनालिटी में क्रिएटिविटी और आर्ट भी बचपन से डेवलप हो सकेगा। इन स्कूलों को ग्रीन स्कूल के रूप में डेवलप किया जाएगा। इनके कैंपस इस तरह तैयार होंगे जहां जल संरक्षण से लेकर कूड़े की रीसाइकलिंग, बिजली की बचत का ख्याल रखा जाएगा। पाठ्यक्रम ऐसा होगा जो बच्चों में ऑर्गेनिक लाइफस्टाइल को बढ़ावा दे सके।

Views: 143

Leave a Reply