स्वामी जी के विचार आज भी प्रासंगिक

गाजीपुर। श्रीमत परमहंस परिब्राजकाचार्य शंकर रूप दण्डिस्वामी सहजानन्द सरस्वती (1889-1950) की 71 वीं पुण्यतिथि रविवार को शहर के स्वामी सहजानन्द पीजी कालेज परिसर स्थित स्वामी जी के मंदिर में हवन पूजन के साथ सम्पन्न हुई।

इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो.(डॉ.) वी के राय ने स्वामी जी को 20वीं सदी का श्रेष्ठ चिंतक-विचारक तथा भारतीय पुनर्जागरण और स्वाधीनता आंदोलन का श्रेष्ठ नायक बताया। उन्होंने कहा कि संगठित किसान आंदोलन के जनक तथा प्रणेता के रूप में स्वामी जी का योगदान कभी विस्मृत नहीं किया जा सकता। राष्ट्र तथा किसान हित में उनके विचार आज भी प्रसंगिक हैं।आज हमें उनके विचारों से प्रेरणा लेने की आवश्यकता है।
छोटे पंडित जी के पुरोहित्य में सम्पन्न हवन-पूजन कार्यक्रम में प्राचार्य प्रो.(डॉ.) वी के राय, रबीन्द्र नाथ शर्मा, प्रो. अवधेश राय, प्रो. अजय राय, मनोज राय, रामधारी राम, डॉ अभय मालवीय, डॉ. नरनारायण राय, संजय राय, प्रवीण राय, शशांक राय, समीर राय, बांके राम,धर्मेंद्र कुशवाहा, पुष्कर सारस्वत, कृष्णनानंद उपाध्याय तथा आलोक शर्मा आदि शिक्षक-कर्मचारी सम्मिलित रहे।

Visits: 222

Leave a Reply