ससमारोह मना अमर शहीद कमलेश सिंह का 23 वां शहादत दिवस

गाजीपुर। सेना मेडल विजेता कारगिल अमर शहीद कमलेश सिंह का 23 वां शहादत दिवस बिरनो थाना के सामने स्थित उनके आदमकद प्रतिमा पर पुष्पाञ्जलि अर्पित कर क्षेत्रवासियों द्वारा ससमारोह मनाया गया।
इस अवसर पर प्रसिद्ध शिक्षाविद,पूर्व कुलपति डॉ हरिकेश सिंह ने कहा कि देश के सीमाएं सुरक्षित रहें, राष्ट्रीय एकता,अखंडता अच्छुण रहे इसके लिए प्राचीन काल से संत,तपस्वियों के साथ ही साथ योद्धाओं की बड़ी भूमिका रही है। प्रभु श्री रामचन्द्र जी से लेकर चन्द्रगुप्त मौर्य,महाराणा प्रताप, भगत सिंह,सरदार पटेल तक एक श्रृंखला रही है। उन्होंने देश की अखंडता सुरक्षित व संरक्षित रखने के लिए अपना सर्वस्व अर्पण कर दिया।इसी परंपरा को आगे बढ़ाने का काम अपने क्षेत्र के शूरवीर शहीद कमलेश सिंह ने किया। जब पाकिस्तान धोखे से भारत के एक हिस्से को कब्जा करने की बदनीयत रखता था तो उसके मंसूबे को ध्वस्त करके भारत के तिरंगे के आन बान शान के लिए कमलेश सिंह ने अपनी शहादत दे दिया। श्री सिंह ने कहा कि शहीद स्थलों,स्मारकों का महत्व मंदिर,मस्जिदों से ज्यादा है क्योंकि यहां से देश सेवा के लिए अपार ऊर्जा मिलती है। देश जब सुरक्षित रहेगा तब आपका सम्मान, स्वाभिमान भी सुरक्षित रहेगा। उन्होंने कहा किया कि शहीद कमलेश सिंह ने सन 1999 में कारगिल में शहादत दिया तब से गाजीपुर के शहीदी धरती के केवल इस क्षेत्र से ही दर्जनों युवाओं ने अपने आपको मातृभूमि के लिए समर्पित कर दिया। ये स्मारक अपार ऊर्जा का केंद्र है। आने वाले दिनों में भी ये प्रेरणा देती रहेगी। पूर्व कुलपति ने आह्वान किया कि क्षेत्र की युवा शक्ति आगे आकर देश सेवा के हर क्षेत्र में बढ़े और क्षेत्र के साथ ही साथ प्रदेश,देश के मानचित्र पर जिले के गौरव को बढ़ाने का कार्य करे।
इस अवसर पर मुख्य रूप से तेज बहादुर सिंह,गुड्डू यादव,अभिनव सिंह प्रिंस,कुँवर रूपेश कुमार,अमित सिंह, राजेश सिंह,विनोद बिन्द, अरुण राय,विवेक सिंह,रणजीत सिंह,अजित कुमार,वैभव सिंह,सूर्याश सिंह आदि उपस्थित रहे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता शहीद कमलेश सिंह के पिता कैप्टन अजनाथ सिंह ने तथा संचालन व आभार प्रकट भाजपा नेता योगेश सिंह ने किया।


Hits: 89

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: