हिन्दी पत्रकारिता दिवस आज

पत्रकारों को संरक्षा,सुरक्षा और आर्थिक मदद प्रदान करे सरकार – डा.ए.के.राय


गाजीपुर। हिन्दी पत्रकारिता का उदय हिन्दी प्रदेश से सुदूर कोलकाता से हुआ था। उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासी पंडित युगल किशोर शुक्ला ने 30 मई 1826 को कोलकाता के कोलूटोला के आमणतल्ला गली से ”उदन्त मार्तण्ड” नामक हिंदी समाचार पत्र का प्रकाशन किया। उसे देश के प्रथम हिन्दी समाचार पत्र का गौरव मिला। इसीलिए प्रत्येक वर्ष तीस मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है।
   हिंदी पत्रकारिता और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का चोली दामन का साथ रहा है। उस जमाने में  ब्रितानी हुकूमत की दासता की बेड़ियों से जूझ रहे देशवासियों को हिन्दी पत्रकारिता ने नयी धार दी। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि हिंदी पत्रकारिता ने जनता की स्वतंत्रता की आकांक्षाओं और अभिलाषाओं को वाणी प्रदान कर स्वतंत्र संग्राम का मार्ग प्रशस्त करते हुए राष्ट्रीयता, स्वतंत्रता एवं समाज सुधार का खुला समर्थन किया। अंग्रेजी दासता की बेड़ियों से मुक्त होने की कसक के साथ आमजन को जागृत करने के उद्देश्य से आरंभ हुई पत्रकारिता एक दुरुह, दुष्कर व चुनौतीपूर्ण कार्य था,जहां पग पग पर कठिनाइयों का सामना करना था। इसे स्वीकार कर हिंदी के पत्रकारों ने देश के स्वतंत्रता आंदोलन में स्वयं अभावग्रस्त रहकर यातनाएं सही, जेल गए फिर भी वह राष्ट्र हित में निरंतर अपने पथ पर आगे बढ़ अपने कार्यों को गति देते रहे। पत्रकारों ने, स्वाधीनता आन्दोलन के दौरान देश की सोई हुई जनता को जगाने का काम पत्रकारिता के माध्यम से किया।
     इसके उपरांत कोलकाता से ही राजा राममोहन राय ने बंग दूत का प्रकाशन 1830 में किया। जो अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला तथा फारसी भाषा में प्रकाशित हुआ। स्वतंत्रता आंदोलन से जूझ रहे देश में उस समय दर्जनों समाचार पत्र पत्रिकाएं हिंदी के जाने-माने पत्रकारों द्वारा प्रकाशित की गई, अंग्रेजी शासन के अत्याचार से देश को मुक्त कराने वाले आन्दोलनकारी सेनानियों नेट अपनी बातों को जनता तक पहुंचाने के लिए समाचार पत्रों को ही माध्यम बनाया। इन समाचार पत्रों की शक्ति से अंग्रेजी सरकार सदैव आतंकित रखती थी और पत्रकारों को पकड़कर इन अखबारों पर रोक लगाने की कोशिश करती रही। अंग्रेजी हुकुमत की नीतियों के विरुद्ध राजा राज मोहन राय, महात्मा गांधी, पं. मदन मोहन मालवीय, पुरुषोत्तम दास टंडन, गणेश शंकर विद्यार्थी, पंडित कमलापति त्रिपाठी, भारतेंदु हरिश्चंद्र, महावीर प्रसाद द्विवेदी, प्रताप नारायण मिश्र, अंबिका प्रसाद बाजपेई, मुंशी प्रेमचंद, सम्पूर्णानन्द, रामवृक्ष बेनीपुरी, महादेवी वर्मा सहित सैकड़ों समाजसेवी साहित्यकारों ने अपनी लेखनी से देश की जनता में देश प्रेम की भावना जागृत किया, जिसकी बदौलत देशवासियों में नई चेतना का संचार हुआ और देशवासी मनोवेग से ब्रितानी हुकूमत को उखाड़ फेंकने हेतु निकल पड़े, जिसके कारण अंग्रेजों को अपनी कार्य प्रणाली में परिवर्तन करना पड़ा। देश की बदलती आवोहवा को भांप अन्ततः अंग्रेजों को देश छोड़ने हेतु मजबूर होना पड़ा।
       आरम्भ में मिशन के रुप में आरम्भ हुई पत्रकारिता आज बदलते परिवेश में व्यवसायिक रुप धारण कर चुकी है। संचार माध्यमों के विस्तार के चलते पत्रकारिता का क्षेत्र और व्यापक होता जा रहा है। पत्रकार सभ्य समाज का प्रहरी, दिग्दर्शक व स्वछन्द चिंतक माना गया है। पत्रकार का कार्य संकीर्ण भावनाओं से ऊपर उठकर निष्पक्ष व प्रभावी लेखनी द्वारा सही व स्पष्ट विचार जनता व शासन प्रशासन के सामने लाना होता है, जिससे राष्ट्र प्रगति के पथ पर अग्रसर हो।
        आज कोरोना महामारी के दौरान भी अपनी जान जोखिम में डालकर पत्रकार अपनी कलम की आवाज को बुलन्द कर रहे हैं। इसके चलते जहां हजारों पत्रकार संक्रमित हुए हैं वहीं सैकड़ों पत्रकार काल के गाल में समा गये हैं। पत्रकारों की संरक्षा, सुरक्षा और आर्थिक सहायता को ध्यान में रखकर सरकार को पत्रकारों के लिए ठोस कदम उठाने चाहिये। आज हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर इससे जूड़े सभी कर्मयोगी पत्रकार साथियों को बधाई …….

Hits: 24

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: