बासंतिक नवरात्रि

हिंदू नववर्ष का शुभारंभ चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से ही होती है। इसी शुभ दिन से चैत्र नवरात्रि का पवित्र त्योहार भी आरंभ होता है। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष के पहले दिन से ही मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना का पर्व आरंभ होता है।

      इस वर्ष आज 22 मार्च 2023 को चैत्र प्रतिपदा से नवरात्रि आरंभ हो रही है। आज के दिन घटस्‍थापना होगी और नवरात्रि का समापन रामनवमी के दिन 30 मार्च को होगा। 

    इस वर्ष चैत्र नवरात्रि का आरंभ 22 मार्च से होगा.हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 22 मार्च 2023 की रात 8:20 तक रहेगी।

            घट स्थापना के लिए चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिन मिट्टी का कलश लेकर उसे शुभ मुहूर्त में ईशान कोण में साफ जगह पर स्थापित करें। घट स्थापना से पहले थोड़े से चावल डालें इसके बाद कलश इसके ऊपर रखें कलश में सिक्का डाल कर उसमें शुद्ध जल भरें और कलश के ऊपर एक लाल चुनरी से नारियल बांधकर रखें। कलश पर कलावा बांधें और स्वास्तिक बनाएं। 

घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त – आज घटस्‍थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 06:29 बजे से सुबह 07:39 बजे तक रहेगा, वहीं घटस्थापना का अमृत काल – सुबह 11:07 बजे से 12:35 बजे तक रहेगा।  इस वर्ष चैत्र नवरात्रि पर ग्रह-नक्षत्र का दुर्लभ संयोग बन रहा है। चैत्र नवरात्रि में शनि और मंगल मकर राशि में रहेंगे। शनि की राशि मकर में शनि-मंगल की युति पराक्रम बढ़ाने वाला रहेगा‌। नवरात्रि के 9 दिनों में रवि पुष्य नक्षत्र के साथ सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग भी बनेंगे जो नवरात्रि की शुभता को और बढ़ाएंगे। इस दौरान किए गए शुभ काम, पूजा-अनुष्‍ठान कामों में सफलता दिलाएंगे। वहीं गुरु और शुक्र का कुंभ राशि में होना. मीन में सूर्य-बुध की युति बुधादित्‍य योग बनाएगी. मेष राशि के चंद्रमा, वृषभ में राहु, वृश्चिक में केतु विराजमान रहेंगे। 

     चैत्र नवरात्रि प्रथम दिन (22 मार्च 2023) – प्रतिपदा तिथि, मां शैलपुत्री पूजा, घटस्थापना  

चैत्र नवरात्रि दूसरा दिन (23 मार्च 2023) – द्वितीया तिथि, मां ब्रह्मचारिणी पूजा  चैत्र नवरात्रि तीसरा दिन (24 मार्च 2023) – तृतीया तिथि, मां चंद्रघण्टा पूजा  चैत्र नवरात्रि चौथा दिन (25 मार्च 2023) – चतुर्थी तिथि, मां कुष्माण्डा पूजा  चैत्र नवरात्रि पांचवां दिन (26 मार्च 2023) – पंचमी तिथि, मां स्कंदमाता पूजा  चैत्र नवरात्रि छठा दिन (27 मार्च 2023) – षष्ठी तिथि, मां कात्यायनी पूजा  चैत्र नवरात्रि सातवां दिन (28 मार्च 2023) – सप्तमी तिथि, मां कालरात्री पूजा  चैत्र नवरात्रि आठवां दिन (29 मार्च 2023) – अष्टमी तिथि, मां महागौरी पूजा, महाष्टमी  चैत्र नवरात्रि नवां दिन (30 मार्च 2023) – नवमी तिथि, मां सिद्धीदात्री पूजा, दुर्गा महानवमी होगी।

     नवरात्रि में नौ देवियों के बीज मंत्र  

शैलपुत्री: ह्रीं शिवायै नम:.  

ब्रह्मचारिणी: ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:.

चन्द्रघण्टा: ऐं श्रीं शक्तयै नम:.

कूष्मांडा: ऐं ह्री देव्यै नम:.

स्कंदमाता: ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:.

कात्यायनी: क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:.

कालरात्रि: क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:.

महागौरी: श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:.

सिद्धिदात्री: ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:.

  

    

      

      

     

     

Views: 93

Leave a Reply