नुक्कड़ नाटक के जरिए बताई शिक्षा की महत्ता,स्कूल जाने हेतु किया प्रेरित

गाजीपुर। बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा परिषदीय विद्यालयों में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने व बच्चों के नामांकन बढ़ाने हेतु विशेष पहल की जा रही है। 

        इस क्रम में विभाग द्वारा गांवों में नुक्कड़ नाटक आयोजित कर ग्रामीणों को शिक्षा का महत्व बताते हुए जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है। इसका उद्देश्य है कि स्कूल की पहुंच से दूर रहने वाले 6 वर्ष से 14 वर्ष की आयु तक के सभी बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ा जा सके। 

         गांव के शत-प्रतिशत बच्चों का नामांकन स्कूल में कराने के लिए नुक्कड़ नाटक जागरूकता कार्यक्रम के तहत शिक्षा क्षेत्र सादात के कम्पोजिट विद्यालय बरहपार नसरतपुर के बच्चों एवं अध्यापकों द्वारा गांव की मुसहर बस्ती में शनिवार को सामुदायिक सहभागिता के उद्देश्य से नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया गया। नाटक को देखने के लिए ग्रामीणों की भीड़ लगी रही। छात्र छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक व लोकगीत के जरिये ग्रामीणों को शिक्षा का महत्व समझाया। साथ ही उन्हें बच्चों को पढ़ाने के लिये स्कूलों में मिलने वाली मुफ्त शिक्षा के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही ग्रामीणों को एक अप्रैल से स्कूल में शुरू हो रहे नए शैक्षिक सत्र की जानकारी देते हुए उनसे अपने बच्चों को नियमित स्कूल भेजने के लिए प्रेरित किया गया।

       नुक्कड़ नाटक के मंचन में काजल, शबाना, तब्बसुम, नाजिया, आंचल, प्रियांशी, तुलसी, हिमांशु, सदाबृज आदि की विशेष भूमिका रही। इस मौके पर प्रधानाध्यापक पंकज यादव, एआरपी सुरेंद्र प्रताप यादव, मंडलीय शैक्षिक सम्मेलन में सम्मानित विद्यालय की शिक्षिका मीरा तिवारी, सुरेश कुमार यादव, अखिलेश शर्मा, बिन्दुलता एवं ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

Visits: 85

Leave a Reply