उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य कार्यक्रम में बतायी सरकार की उपलब्धियां

गाजीपुर। उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य, पावर/2047 कार्यक्रम का शुभारंभ ग्राम पंचायत धामूपुर में विधान परिषद सदस्य विशाल सिंह चचल एवं अपर जिलाधिकारी ने दीप प्रज्वलित कर किया। इसके उपरान्त अतिथियों द्वारा लगाये गये प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया।
उन्होंने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 25 जुलाई 2022 से 30 जुलाई 2022 तक पूरे सप्ताह तक चलने वाले उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य पावर/2047 मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में वुधवार को विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय विद्युत मंत्रालय के सहयोग से भोलानाथ स्मारक महाविद्यालय धामूपुर विकास खण्ड जखनियॉ में इस महोत्सव का आयोजन किया गया। केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से विद्युत क्षेत्र में हुए विभिन्न उपलब्धियों के लिए बिजली महोत्सव को एक मंच के रूप में इस्तेमाल किया गया।
विधान परिषद सदस्य ने विशेष तौर पर केंद्र सरकार की ओर से बिजली क्षेत्र में हासिल किए गए प्रमुख उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भारत अब अपने पड़ोसी देशों को बिजली निर्यात कर रहा है। पूरे देश को एक ग्रिड में जोड़ने के लिए 1,63,000 सर्किट किलोमीटर ट्रासमिशन लाइनें जोड़ी गईं, जो एक फ्रीक्वेंसी से संचालित हो रही है। लद्दाख से कन्याकुमारी तक और कच्छ से म्यांमार तक यह दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत ग्रिड के रूप में उभरा है। इस ग्रिड का इस्तेमाल करके हम देश के एक कोने से 1,12,000 मेगावाट बिजली पहुंचा सकते हैं। हमने कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज कोप-21 में वचन दिया था कि 2030 तक अक्षय ऊर्जा स्रोतों से हमारी उत्पादन क्षमता का 40 फीसदी पहुंच जाएगा। उन्होंने कहा कि हम अक्षय ऊर्जा स्रोतों से 1,63,000 मेगावाट से भी अधिक बिजली पैदा करते हैं। हम दुनिया में अक्षय ऊर्जा क्षमता को तेज गति से स्थापित कर रहे हैं। 2,01,722 करोड़ रुपये के कुल लागत के साथ हमने विद्युत वितरण व्यवस्था को सुदृढ़ किया है। पिछले पांच वर्षों में बिजली के आधारभूत संरचना के तहत कई कार्यों को पूरा किया गया है। इनमें 2,921 नए उपकेन्द्र बनाना, 3,926 उपकेन्द्र का विस्तार, 6,04,465 सर्किट किलोमीटर एलटी लाइन स्थापित करना, 2,68,838 सर्किट किमी 11 केवी हाई टेंशन लाइनें स्थापित करना, 1,22,123 सर्किट किलोमीटर कृषि फीडरों का फीडर पृथक्करण और स्थापना आदि शामिल है। 2015 में ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति की उपलब्धता औसतन 12.5 घंटे था, जो अब बढ़ कर औसतन 22.5 घंटे तक हो गया है। सरकार द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के अधिकार के तहत नियम, 2020 पेश किया गया,इसके तहत नए बिजली कनेक्शन प्राप्त करने की अधिकतम समय-सीमा अधिसूचित की गई है। उपभोक्ता अब रूफ टॉप सोलर को अपना सकते हैं। उपभोक्ताओं की शिकायतों का निवारण करने के लिए डिस्कॉम द्वारा 24×7 कॉल सेंटर स्थापित किया जायेगा। सौर पंपों को अपनाने के लिए शुरू की गई योजना जिसके तहत केंद्र सरकार 30 फीसदी अनुदान देगी और राज्य सरकार 30 फीसदी अनुदान देगी. इसके अलावा, 30 फीसदी ऋण सुविधा उपलब्ध होगी। पूरे देश में मनाया जा रहा यह महोत्सव उज्ज्वल भारत उज्जवल भविष्य पॉवर/2047 के तहत पूरे देश में बिजली महोत्सव के तौर पर मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य बिजली क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सार्वजनिक जनभागीदारी और विकास में ज़मीन से जुड़े लोगों को इसमें सम्मिलित करना है। कार्यक्रम में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक और विद्युत क्षेत्र पर बनी लघु फिल्मों का प्रदर्शन किया गया।
इस अवसर पर सी.बी.सिह अधीक्षण अभियन्ता पूर्वाचल विद्युत निगम, अनुराग सिंह उप महा प्रबन्धक, नीरज कुमार वरिष्ठ प्रबन्धक, मनीष कुमार अधि.अभियन्ता पूर्वाचल विद्युत निगम, सौरभ सिंह प्रबन्धक भोलानाथ स्मारक महाविद्यालय, अनिल कुमार पाण्डेय एवं टीम मैनेजर पावर ग्रिड परिवार सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी व भारी संख्या में लाभार्थी मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन नेहरू युवा केन्द्र के एसीटी सुभाष प्रसाद ने किया।


Hits: 95

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: