मुख्य चिकित्साधिकारी ने की खानापूर्ति, अस्पताल आज भी चिकित्सकविहीन

गाजीपुर । जखनिया क्षेत्र के धामूपूर गांव में स्थित शहीद वीर अब्दुल हमीद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आज भी प्रशासनिक व विभागीय उपेक्षा का शिकार है। जिला प्रशासन सबकुछ जानते हुए भी धृतराष्ट्र बना बैठा है। इसके चलते स्थानीय ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। उनका कहना है कि सीएमओ ने कागजातों में इस अस्पताल पर चिकित्सक की नियुक्ति दर्शा कर अपना पल्ला झाड़ लिया लेकिन वास्तविकता यह है कि आज तक अस्पताल पर कोई चिकित्सक नहीं पहुंचा।

    बताते चलें कि क्षेत्र व जनता की मांग पर परमवीर चक्र विजेता शहीद वीर अब्दुल हमीद के गांव धामपुर में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थापित हुआ और क्षेत्रीय जनता तथा ग्रामीणों को इस अस्पताल के खोलने से काफी राहत महसूस हुई। करीब चार माह पूर्व इस अस्पताल पर कार्यरत चिकित्सक डॉ. राकेश रोशन का  स्थानांतरण मऊ जनपद में हो जाने के बाद से चिकित्सक का पद रिक्त चल रहा था।

          कई बार प्रयास के बावजूद जब इस अस्पताल पर चिकित्सक की तैनाती नहीं की गई तो गांव के समाजसेवी अनिकेत चौहान ने प्रधानमंत्री कार्यालय सहित मुख्यमंत्री पोर्टल पर इसकी जानकारी देते हुए शीघ्र अस्पताल पर चिकित्सक की नियुक्त करने की मांग की थी। इसे संज्ञान लेते हुए शासन ने शीघ्र चिकित्सक की तैनाती का निर्देश दिया। इसके बाद दस दिन पूर्व सीएमओ ने डॉक्टर की नियुक्ति का आदेश जारी कर दिया और अनिकेत चौहान को सूचित कर दिया कि हथियाराम मठ स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक डॉ अनूप राजभर की पीएचसी धामूपुर में सप्ताह में 3 दिन हेतू तैनाती  कर दिया गया है जो सप्ताह में 3 दिन धामूपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपलब्ध रहेंगे।

    सीएमओ द्वारा जारी आदेश आज तक मात्र दिखावा बन कर रह गया है। करीब दो सप्ताह बीतने के बाद आज तक चिकित्सक के दर्शन नहीं हुए।  इससे क्षुब्ध ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि विभाग जानबूझकर इस अस्पताल के साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है। उन्होंने जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराते हुए शीघ्र ही इस अस्पताल पर चिकित्सक उपलब्ध कराने की मांग की है।

Views: 142

Leave a Reply