धर्म बना बाधक ! परिवारिक उपेक्षा के चलते  पिता ने की सौतेले पुत्र की हत्या

बहराइच,28 नवम्बर 2019। मुस्लिम महिला ने हिन्दू पति के साथ दूसरी शादी तो रचा ली परन्तु हिन्दू पति अन्ततः अपनी प्रेमिका के पहले बच्चे को दिल से अपना न सका। दूसरे पति ने अपनी प्रेमिका को तो अपना लिया पर मुस्लिम संतान होने के कारण उन्हें परिवार और समाज में उपेक्षा का सामना करना पड़ रहा था।
पुलिस अधीक्षक गौरव ग्रोवर ने बताया कि बच्चे की माँ मुस्लिम बिरादरी की रही, जो अपने पूर्व मुस्लिम पति से हुए बच्चे को लेकर हिन्दू परिवार में शादी करके रहने लगी थी। यह घटना
जिले के रिसिया थाना क्षेत्र के भैंसहा गांव की है। उन्होंने बताया कि विगत 19 नवम्बर को छह वर्षीय फरीद उर्फ सूरज लापता हो गया। लोगों को बताया गया कि बच्चा गुम हो गया है। इस बीच 25 तारीख को गांव के बाहर एक बच्चे का कटा सिर और टुकड़े टुकड़े किया गया शव बरामद हुआ। उसकी शिनाख्त गुमशुदा बच्चे के रूप में हुई। पुलिस ने जब वारदात की तहकीकात शुरू की तो नये तथ्य उजागर होते चले गये। और अन्ततः पुलिस ने मामले का खुलासा कर दिया।
उन्होंने बताया कि मृतक की मां हिना मुस्लिम बिरादरी की थी। उसका विवाह मुस्लिम व्यक्ति से हुआ था जिससे उसको एक पुत्र प्राप्त हुआ था। बाद में मतभेद के चलते शौहर बीबी अलग हो गये। कुछ दिन पूर्व ही भैंसहा निवासी नान्हे उर्फ राम संवारे यादव हिना को अपने घर लाया और दोनों पति पत्नी की तरह रहने लगे। नन्हें ने हिना के पुत्र फरीद का नाम बदल कर सूरज यादव रख दिया, परन्तु उसे परिवार और गांव वालों से उपेक्षित होना पड़ा। इससे बचने के लिए बच्चे के सौतेले पिता राम संवारे ने अपने भाई ननकू के साथ मिलकर बीती 19 तारीख को बच्चे की गला दबाकर हत्या कर दी थी तथा शव के टुकड़े कर अलग अलग जगहों पर छिपा दिया था।

Hits: 77

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply