फर्जीफिकेशन ! पत्रकार बन लोगों को ब्लैकमेल करने वाले फर्जी पत्रकार गिरोह के पांच सदस्य चढ़े पुलिस के राडार पर

गाजीपुर, 09 सितम्बर 2019। जिले में तथाकथित पत्रकारों का सक्रिय ग्रुप पिछले काफी दिनों से भोलीभाली जनता को ठगकर दोनों हाथों से धन बटोरने में लगा रहा। इस ग्रुप के सदस्य अपने को पत्रकार बताकर लोगों पर धौंस जमाकर अपना उल्लू सीधा करते रहे। ये लोग आये दिन किसी गांव में जाकर कभी कोटेधारक को तो कभी ग्राम प्रधान को या फिर दुकानदारों व व्यापारियों को उनकी जाचं कराने के नाम पर धमकाते हुए उनसे मनमाफिक धन उगाही करते रहे और पत्रकार के भय के चलते लोग इनकी शिकायत से बचते रहे। मीडिया के नाम पर लोगों को भयभीत कर धन उगाही करनेवाले ऐसे लोगों की संख्या जिले में बढ़ती जा रही थी,तभी एक मामले ने इनकी पोल खोल दी और मीडिया के नाम की धौंस दिखाने वाले कुछ तथाकथित पत्रकार पुलिस के बिछाये जाल में आ गये। मामला जंगीपुर थाना क्षेत्र का है।
जानकारी के अनुसार जंगीपुर बाजार के एक मेडिकल स्टोर संचालक को ब्लेकमेल करने करने वाले गिरोह के तथाकथित पत्रकार एवं उनकी महिला सहयोगी को पुलिस अधीक्षक डा. अरविंद चतुर्वेदी के आदेश पर जंगीपुर थाना एवं महिला थाना पुलिस ने कल धर दबोचा।
बताया गया है कि जंगीपुर बाजार के मेडिकल स्टोर संचालक के पास दस दिन पूर्व एक महिला दवा लेने के बहाने मेडिकल स्टोर के अन्दर घुस गयी। उसके बाद उस महिला के कथित पत्रकार साथी अचानक मेडिकल स्टोर पर पहुंच गये और महिला के साथ दुकानदार का अवैध संबंध बताकर उसका वीडियो बनाने लगे। अपनी इज्ज़त बचाने की गरज से मेडिकल स्टोर संचालक ने उस तथाकथित ग्रुप को पैसे देकर अपनी जान बचाई। बाद में वे पत्रकार मेडिकल स्टोर संचालक से उस महिला के साथ समझौता कराने के लिए दो लाख रुपये देने का दबाव बनाने लगे और पैसा न देने पर उसे जूर्म में फंसाने की धमकी देने लगे। इनकी रोज रोज की मांगों से तंग आकर मेडिकल स्टोर संचालक मणिनाथ गुप्ता पुत़्र रामनरायन गुप्ता निवासी अरसदपुर थाना जंगीपुर ने पुलिस से मिलकर सारी बात बताकर तथाकथित पत्रकारों से बचाने की गुहार लगाई। मणि नाथ गुप्ता के तहरीर पर थाना जंगीपुर में मुकदमा अपराध संख्या 108 /2019 भारतीय दण्ड विधान की धारा 386,420, 506,467,468 व 471 भ्के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया। इस मुकदमे के ब्लैकमेलरों को पकड़ने के लिए थाना प्रभारी जंगीपुर निरीक्षक जयचंद भारती द्वारा योजना बनाकर भुक्तभोगी दुकानदार द्वारा पैसा देने के बहाने ब्लैकमेलरों को बुलाया गया। योजना के तहद देवकठिया पुल के पास थाना प्रभारी अपने पुलिस टीम के साथ जाल बिछाकर ब्लैकमेलरों को पकड़ने के लिए मुस्तैद रहे। कुछ देर बाद पुल के समीप तीन की संख्या में चारपहिया वाहन आकर रुके। वादी द्वारा उनको पहचान कर इशारा करने पर पुलिस टीम ने तत्परता दिखाते हुए तीनों वाहनों को अपनी गिरफ्त में ले लिया। पुलिस द्वारा उनकी तलाशी लेने पर आधार कार्ड, पैन कार्ड तथा पत्रकार की आईडी बरामद की गई। जांच में पत्रकार की आईडी फर्जी पाई गई।
पुलिस अधीक्षक डॉ अरविंद चतुर्वेदी ने आज अपने कार्यालय में पत्रकार वार्ता कर उन्हें मीडिया के सामने पेश कराया। बताया कि इस गिरोह की सरगना महिला द्वारा बताया गया कि हम लोग गिरोह के माध्यम से लोगों को ब्लैकमेल कर रंगदारी मांगने का काम करते हैं। मणि नाथ गुप्ता को इसी प्रकार योजना बनाकर हमने अपने जाल में फंसाया। पहले हमने एक महिला को दवा लेने के लिए उसके मेडिकल स्टोर में भेजा जो वहां दुकान में बैठकर दुकानदार से बात करने लगी। उसी समय हम लोग पहुंचकर फोटो लेकर अपने को पत्रकार बता कर फोटो को न्यूज़ चैनलों पर जारी कर धमकी देकर उसके एवज में मेडिकल स्टोर संचालक से ₹200000 की मांग की थी। उनके कहने पर जब हम लोग पैसा लेने यहां पहुंचे हैं तो पुलिस ने हम लोगों को गिरफ्तार कर लिया।
गिरफ्तार अभियुक्तों में अजय सिंह पुत़्र विरेन्द्र सिंह व अमन तिवारी निवासी गण हंसराजपुर थाना शादियाबाद तथा आदित्य कुमार पता अज्ञात सहित दो महिलाएं हैं। गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में थानाध्यक्ष जंगीपुर निरीक्षक जयचंद भारती,उप निरीक्षक कृष्ण प्रताप सिंह महिला थाना प्रभारी उपनिरीक्षक ममता आरक्षी सत्येंद्र गौंड़,चंचल कुमार, महेंद्र सिंह थाना जंगीपुर तथा मुख्य आरक्षी आरती महिला थाना गाजीपुर रहे। आवश्यक कार्यवाही करते हुए पुलिस ने अभियुक्तों को जेल भेंज दिया।

Hits: 91

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply