स्वतंत्रता दिवस! प्रधानमंत्री ने छठवीं बार किया देशवासियों को संबोधित

नयी दिल्ली, 15 अगस्त 2019। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज 73वें स्वतंत्रता दिवस के ऐतिहासिक मौके पर लाल किले की प्राचीर से लगातार छठी बार देशवासियों को संबोधित किया। इस वर्ष के लोकसभा चुनाव में भारी जनादेश के साथ भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाले राजग की सत्ता में पुनः वापसी के बाद प्रधानमंत्री का लाल किले से राष्ट्र के नाम यह पहला संबोधन रहा।
अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने जहां ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ’ (सीडीएस) का पद सृजित करने की घोषणा की,वहीं उन्होंने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान हटाने के अपनी सरकार के महत्वपूर्ण फैसले, देश की अर्थव्यवस्था में सुधार, तीन तलाक विरोधी कानून, आतंकवाद और कई अन्य मुद्दों पर अपनी बात बेबाकी से रखी।
लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए आज उन्होंने कहाकि देशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कई प्रावधान हटाने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के सरकार के कदम की पृष्ठभूमि में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम समस्यों को न टालते हैं, न पालते हैं और अब समस्याओं को टालने और पालने का समय नहीं है।प्रधानमंत्री ने विपक्षियों की चुटकी लेते हुए कहा कि ‘‘जो लोग अनुच्छेद 370 की वकालत कर रहे हैं उनसे देश पूछ रहा है कि अगर यह इतना महत्वपूर्ण था तो इसे आप लोगों ने स्थायी क्यों नहीं किया, अस्थायी क्यों बनाए रखा ?’’
सरकार बनने के 70 दिनों भीतर संसद के दोनों सदनों ने अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाने का निर्णय का अनुमोदन किया।’’‘‘देशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं।’’मोदी ने कहा, ‘‘ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सपनों को पंख लगें, यह हम सबकी जिम्मेदारी है।’’ इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने देश में पालीथीन पर प्रभावी नियंत्रण करने व आबादी नियंत्रण के लिये छोटे परिवार पर जोर दिया और कहा कि आबादी समृद्ध हो, शिक्षित हो तो देश को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।उन्होंने कहा कि जीएसटी ने ‘एक देश, एक कर‘ के सपने को सच किया,तो भारत ने ऊर्जा के क्षेत्र में एक देश, एक ग्रिड की उपलब्धि भी हासिल की है, अब चर्चा एक देश एक चुनाव को लेकर है, यह देश को महान बनाने के लिए अनिवार्य है।
मोदी ने कहा, ‘‘आज देश में 21वीं सदी की आवश्यकता के मुताबिक आधुनिक बुनियादी ढांचे का निर्माण हो रहा है। देश के बुनियादी ढांचे के निर्माण पर 100 लाख करोड़ रुपए का निवेश करने का फैसला किया गया है।’’
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले के प्रचीर से मोदी का यह लगातार छठा और दोबारा सत्ता में आने के बाद पहला संबोधन था। लाल किले की प्राचीर से लगातार छठा भाषण देने वाले मोदी इस उपलब्धि के मामले में भाजपा के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समकक्ष हो गए। वाजपेयी ने 1998 से 2003 के बीच लगातार छह बार लालकिले की प्राचीर से 15 अगस्त को भाषण दिया था।
अपने उद्बोधन के बाद प्रधानमंत्री वहां से चलकर मौजूद बच्चों के बीच पहुंच उनका उत्साहवर्धन किया।

Hits: 22

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply