विश्व रिकॉर्ड ! वृक्षारोपण में यूपी ने गिनीज़ बुक में दर्ज कराया नाम

लखनऊ, 10अगस्त 2019। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में भारत छोड़ो आन्दोलन की 77 वीं वर्षगांठ पर आज प्रयागराज के परेड ग्राउण्ड से वृक्षारोपण हेतु 76823 निःशुल्क पौधा वितरित कर विश्व रिकार्ड बनाया गया।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में आज एक नहीं चार रिकार्ड बने हैं, जो अपने आप में ऐतिहासिक है। कहा कि प्रदेश में एक घंटे में (सुबह 09 से 10 बजे तक) पांच करोड़ वृक्षारोपण कर कीर्तिमान स्थापित किया गया है।
प्रदेश की राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल द्वारा जनपद कासगंज में शुभारम्भ किए गए वृक्षारोपण कार्यक्रम में एक ही स्थान पर एक लाख एक हजार पौधारोपण किया गया। साथ ही, प्रयागराज मे एक निश्चित समयावधि में एक ही स्थान पर 76823 पौध वितरण कर विश्व में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया गया है और पूरे प्रदेश में वृक्षारोपण महाकुम्भ के तहत अभी तक लगभग 22 करोड़ से अधिक पेड़ लगा दिये गये हैं।
योगी ने प्रदेश में विश्व कीर्तिमान स्थापित करने में सहयोग करने वाले व्यक्तियों, अधिकारियों, कर्मचारियों, विभागों व संस्थाओं को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि प्रयागराज में हजारों की संख्या में निःशुल्क पौध वितरण किया गया, जिसमें स्कूली बच्चों, संस्थाओं व जन सामान्य ने बड़े उत्साह के साथ भाग लेकर अपना मूल्यवान सहयोग दिया।
उन्होंने कहा कि वृक्ष लोगों को जीवन प्रदान करते हैं, इसलिए हम सबको वृक्षारोपण कर आने वाली पीढ़ी को स्वच्छ वातावरण देना चाहिए।आज वृक्षारोपण का कार्य पूर्ण कर दिया गया है और अब हमें रोपित पौधों को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी निभानी है। उन्होंने कहा कि वन है तो जीवन है, इस सिद्धान्त को हमें हमेशा ध्यान में रखना चाहिए।
उन्होंने कहा कि अगले वर्ष इससे भी अधिक वृक्ष लगाये जाने का लक्ष्य रखा गया है और ऐसे वृक्षों का चयन किया जा रहा है, जो 100 वर्ष से अधिक के हो चुके हैं, उनको संरक्षण प्रदान कर दर्शनीय स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा।
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने वृक्षों के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि पर्याप्त मात्रा में वन होने से वर्षा समय से होती है। जीवन के लिए जल जरूरी है और जल के लिए वृक्ष जरूरी हैं। हमे ऐसा वातावरण बनाना है कि आने वाली पीढ़ी को हवा और पानी के लिए परेशानी न उठानी पड़े।

Hits: 33

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply