सोनभद्र नरसंहार ! मुख्यमंत्री की बड़ी कार्रवाई, डीएम, एसपी सहित आठ अधिकारी हटाए गए

लखनऊ(उत्तर प्रदेश),04 अगस्त 2019। सोनभद्र जिले में गत 17 जुलाई को हुए नरसंहार पर गठित जांच कमेटी की रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज सोनभद्र के जिलाधिकारी अंकित कुमार एवं पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल को हटाते हुए दोनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए हैं।
कल देर रात मुख्यमंत्री को अपर मुख्य सचिव (राजस्व) रेणुका कुमार ने करीब एक हजार पेज की ये रिपोर्ट सौंपी। तीन सदस्यीय जांच कमेटी में प्रमुख सचिव (श्रम) सुरेश चंद्रा और कमिश्नर मिर्जापुर एके सिंह शामिल रहे।वहीं 1989 में राबर्ट्सगंज के तहसीलदार, एसडीएम के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज होगा। मौजूदा एसडीएम, सीओ, सहायक परगना अधिकारी, एसओ, एसआई, सहायक निबंधक को भी निलम्बित किया गया है तथा जितने भी जिम्मेदार जीवित हैं सब पर मुकदमा दर्ज होगा।
अब एस राम लिंगम सोनभद्र के नये जिलाधिकारी एवं प्रभाकर चौधरी नये पुलिस अधीक्षक बनाये गये हैं।
बताते चलें कि सोनभद्र कांड में गलत ढंग से जमीन अपने नाम कराने वाले दो पूर्व आईएएस अफसरों की पत्नियों के खिलाफ भी मुकदमा होगा। पूरे मामले की जांच डीआईजी (एसआईटी) जे रविंद्र गौड़ के नेतृत्व में होगी, 3 महीने में इस पूरे मामले में दर्ज किए गए सभी मुकदमों की जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी। तेरह सौ बीघा की जमीन आदर्श सेवा समिति ने अपने नाम की है जिसके ऊपर कारवाई की जाएगी।
इस पूरे मामले में 8 अफसरों को हटाया गया है डीएम, एसएसपी, एक एडिशनल एसपी, 3 सीओ समेत 8 अफसरों को हटाया गया है। इसके अलावा तीन इंस्पेक्टर, एक सब इंस्पेक्टर, दो सिपाहियों पर भी कार्यवाही की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सोनभद्र और मिर्जापुर में एक लाख हेक्टेयर से अधिक की भूमि फर्जी सोसाइटी गठित करके हड़पने का अधिकांश काम कांग्रेस के समय हुआ है। जांच समिति 3 महीने में अपनी रिपोर्ट देगी जिसके आधार पर आगे कार्यवाही की जाएगी। जांच के लिए नई गठित की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कब्जाई गई जमीन वापस ग्राम पंचायत के नाम दर्ज होगी फिर भूमिहीनों को दी जाएगी। फर्जी सोसायटी बनाकर जहां भी जमीनों को हड़पने का कार्य हुआ है उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार निवासी कांग्रेस के तत्कालीन एमएलसी ने फर्जी सोसाइटी बनवाई, जिसमे उनके 12 रिश्तेदार थे। उसी फर्जी सोसाइटी के नाम गलत तरीके से जमीन दर्ज कराई गई। सोसाइटी के जो भी जीवित सदस्य हैं उनके नाम भी एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।

Hits: 41

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply