कर्नाटक ! बड़े बेआबरू होकर तेरे कुचे से हम निकले , राजनीतिक ड्रामेबाजी खत्म, गिरी सरकार

बेंगलुरू,23 जुलाई 2019। पिछले कुछ दिनों से लगातार चल रहे सियासी घमासान के बीच आज
कर्नाटक की कांग्रेस और जेडीएस की सरकार को मुंह की खानी पड़ी।

मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने विधान सभा में पिछले बृहस्पतिवार को विश्वास मत का प्रस्ताव पेश किया था। विश्वास मत प्रस्ताव पर चार दिन की चर्चा के खत्म होने के बाद वोटिंग में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को हार का सामना करना पड़ा। मत विभाजन में सरकार के पक्ष में सिर्फ 99 वोट और भाजपा के पक्ष में 105 विधायकों ने वोट दिये। . विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार ने घोषणा किया कि 99 विधायकों ने प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया है जबकि 105 सदस्यों ने इसके खिलाफ मत दिया है। इस प्रकार यह प्रस्ताव गिर गया। इस घोषणा के साथ ही भाजपा नेताओं के चेहरों पर खुशी झलकती नजर आयी।
इससे पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने आज कहा कि विश्वास मत की कार्यवाही को लंबा खींचने की मेरी कोई मंशा नहीं थी, मैं विधान सभाध्यक्ष और राज्य की जनता से माफी मांगता हूं। पिछले कई दिनों से जारी राजनीतिक घटनाक्रम पर कुमारस्वामी ने कहा कि चर्चा चल रही है कि मैंने इस्तीफा क्यों नहीं दिया और कुर्सी पर क्यों बना हुआ हूं। कहा कि जब विधानसभा चुनाव का परिणाम (2018 में) आया था, मैं राजनीति छोड़ने की सोच रहा था। उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पड़ी तो खुशी-खुशी पद छोड़ दूंगा।
आज दिन भर चले घटनाक्रम के बाद बेंगलुरु के पुलिस आयुक्त आलोक कुमार ने कहा कि आज और कल हम शहर भर में धारा 144 लगा रहे हैं। सभी पब, शराब की दुकानें 25 तारीख तक बंद रहेंगी। अगर कोई भी इन नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है, तो उन्हें दंडित किया जाएगा।

Hits: 50

Author: Dr. A. K Rai

Leave a Reply